Business Development Tips in Hindi – Orkut, Facebook, Yahoo, Google, Nokia

Business development tips in hindi – बिज़नेस के अलग-अलग प्रकार होते है जैसे B2C, B2B, इत्यादि ; और इन्हे समझना बहुत जरुरी है क्योकि ये basic business concepts है | अब ये B2C, B2B क्या है ?

B2B यानी Business2Business; जिसका सीधा-सीधा मतलब है दो business organizations के बीच का transaction| अब ये transaction products, services का भी हो सकता है या फिर financial भी हो सकता है | मतलब जो भी deal होगी वो दो firms/companies के बीच होगी | Generally B2B concepts ज्यादा देखने को मिलते है |

अब चलिए समझते है B2C के बारे में | इसका मतलब है Business2Customers या फिर कही-कही इसे Business2Consumers भी कहा जाता है | इसमें एक company सीधे customers ya consumers से deal करती है | For example, flipkart.com, amazon.com, ebay.com, etc. जो direct consumer/customers से deal करती है |

कैसे करे बिज़नेस development ? Basic Concept को समझे > कुछ examples –

अभी समझने वाली बात ये है की B2B का बिज़नेस concept बड़े बड़े companies के बीच होता है जिसमे customers बीच में नहीं आते है | लेकिन अगर आज के market competition में B2B से ज्यादा B2C के ज़रिए बिज़नेस में बढ़ोतरी की जा सकती है |

मतलब business development के लिए direct customers के साथ interact होना पड़ेगा , यानी बिना B2C के business development नहीं हो सकता | आपको अपने customer को समझना पड़ेगा, वो क्या चाहता है, या उसे इस से बेहतर क्या दिया जाना चाहिए ; आपको इसपर चिंतन करना पड़ेगा |

Example 1 –

उदहारण के तौर पर Orkut.com को ही देख लीजिए | Orkut एक ज़माने में दुनिया की काफी popular social networking site हुआ करती थी | लेकिन Orkut ने कभी अपने customers/users के साथ direct interact नहीं किया | कभी ये नहीं सोचा की users को और better क्या दिया जाए |

और इसी gap को पूरा किया facebook ने | Facebook ने orkut से ज्यादा features launch किए , जिसमे comment system, like system , mutual friends महत्वपूर्ण थे | लेकिन facebook पर भी संकट के बादल छाने लगे जब whatsapp market में आया | फिर दोबारा facebook ने market analysis किया और users experience को समझा | और finally facebook ने साल 2014 में whatsapp को $19 billion में ख़रीदा | मकसद सिर्फ एक था की सबसे पहले users के डिमांड को समझना और फिर satisfy करना | और इसी वजह से whatsapp बीच बीच में नए नए updates लता रहता है, और उसके हर updates को users पसंद भी करते है |

Example 2 –

चलिए एक और उदहारण लेते है जो है yahoo, rediff जैसे धुरंधर search engines का जो एक ज़माने में सबसे ज्यादा popular थे, शायद google से भी ज्यादा !

Yahoo उन् दिनों काफी popular search engine था और rediff अपने email feature के लिए जाना जाता था | थोड़े समय बाद google आया जिसने अपने search algorithm yahoo से भी ज्यादा बेहतर रखे | इस वजह से अब internet users को google search engine में yahoo से भी ज्यादा अच्छे और accurate search results मिलने लगे | Google ने सिर्फ अपने users के queries को समझा , वो क्या search करते है , search के बाद किन results में जाना पसंद करते है , इत्यादि | फिर google ने अपने gmail service के साथ rediff mail का market भी down कर दिया क्यूकि rediff mail काफी complicated था जहा दूसरी तरह google ने अपने gmail service में एक clear user interface रखा जो fast था और simple था |

ऊपर के examples से हमे सिर्फ एक ही बात का पता चलता है की इन्होने अपने product से पहले user/customer के demands, choices को priority दिया और इसी वजह से वो चले |

Example 3 –

Products तो Nokia के पास भी थे जो हर साल नए नए high-quality handset launch कर रही थी लेकिन उसने कभी ये नहीं सोचा की आज का generation क्या चाहता है | उसने handsets तो काफी launch किए लेकिन कभी अपने operating system की ओर ध्यान नहीं दिया | और इसी gap को पूरा किया samsung और android ने | Samsung ने अपने operating system में android को choose किया और आज वो nokia से भी ज्यादा market share लेकर बैठा है| जहा nokia अपने वही पुराने Symbian operating system के update versions ला रहा है |

Example 4 – बिज़नेस का विस्तार  –

चलिए एक और example लेते है जिसमे business development के लिए एक field से दूसरे field में विस्तार किया गया है | जी हां ; मैं बात कर रहा हूँ Quikr और Fastrack जैसे companies की |

Quikr के बारे में तो आप जानते ही होंगे | सबसे पहले Quikr एक classified site थी जहा 2nd hand चीज़े खरीदना और बेचना होता था | फिर पूरे market में छा जाने के बाद आज Quikr ने कई और websites बना लिया है जैसे Quikr cars, Quikr jobs, इत्यादि | इस तरह से Quikr ने अपने बिज़नेस का विस्तार किया है | पहले सिर्फ एक website के general concept से revenue generate होती थी लेकिन आज अलग अलग field के concept से revenue generate होता है जिसमे Quikr cars, Quikr jobs महत्वपूर्ण है |

उसी तरह Fastrack ने सबसे पहले watches और eye-wears launch किया था लेकिन आज bags, wallets, smart watches के deals भी करती है |

उसी तरह Lenovo पहले laptops के deals करता था लेकिन आज Lenovo mobile के लिए भी जाना जाता है | Micromax ने mobile के बाद आज television में भी कदम बढ़ा दिया है |

ये भी एक business develop करने का creative तरीका है |

 

Business Development Tips in हिंदी – कुछ जरुरी पेहलू

चलिए अब कुछ जरुरी बातें जान लेते है जिनकी मदद से आप भी इन् companies की तरह अपने बिज़नेस को develop कर पाएंगे |

Customer Feedback लेना जरुरी है –

Bina customer feedback ya survey ke kisi business strategy ko plan karna अँधेरे में तीर चलाने जैसा है| For example aapne 6 months pehle jo business strategies apply kiye thhe jaruri nahi ki customers ke requirements/demands aaj bhi waise hii rahe.

# Ab dekhiye naa HMT ki घड़िया purii tarah se market se khatam ho gayi hai, aur abhi fastrack, Titan jaisi companies market me hai

# Kabhi aapne ye socha hai ki Titan company pehle sirf घड़िया sell kiya karti thhi lekin abhi usne apna business diversified kiya hai Titan eye glasses [Titan ne apne business ko expand kiya hai]

# Aakhir facebook me aisa kya thha jo uusne google ki company ORKUT ko khatam kar diya

Kyuki inn sab ne apne business ke sath ‘customer feedback’ ko bhi importance diya. Waise tou facebook kaafi pehle USA me launch ho chuka thha.

Feedback lene ka sabse behtarin tarika hai ek survey team recruit karna jo puree market ko analysis kare. Ab wo team feedback events, conferences ya phir trade shows par kaam karegi aur market data collect karegi.

Market analysis-

Shayad aap bhi iis baat se sehmat ho ki ek company ke MD se jyada ahemiyat uus company ka marketing department rakhta hai. Yahi wo department hai jo aapke company ke brand ko market tak pahuchata hai.

Marketing department ek aisa department hai jo puree company ko raato raat famous bana sakta hai. Ek company ke marketing department ko uus company ka back-bone kaha jata hai.

Inn marketing department me experienced marketing-analysts hote hai jo marketing decisions lete hai. Ek marketing analyst ke galat decision par agar company-authority koi business strategy plan karti hai tou shayad company loss me bhi jaa sakti hai.

Matlab market analysis ka ye puraa process ek successful business strategy ko develop karne me aham bhoomika nibhati hai. Isliye har ek company high packages par marketing department ke employees recruit karti hai.

Goals vs. milestones-

Goals future hai lekin milestones ko future kehna sahi nahi hoga. Milestones kuch aise steps hai jinpar hume commitment karna padta hai taaki destination puraa ho sakee. Agar ek company ke milestones ki baat ki jaaye tou usme bahut si cheeze aati hai like-

# iis saal ka turnover

# iis saal ka profit margin

# iis saal ka total company production

# total sales, total new clients

Ye chhote chhote milestones hii kisi business/company ko goal tak lead karte hai. Chahe B2B ho ya B2C; har business concepts me goals ko निर्धारित karna bahut jaruri hai, kyuki ho sakta hai aap jis product par kaam kar rahe hai thik uusi product par 10 aur minds kaam kar rahe hai.

Diversified-

Iis term ka sidha matlab hai विविधता! Ab jaise ki olx and quikr ki baat hii kar lijiye. Dono hii kaafi popular Indian classified sites hai. Lekin shayad aapko pata ho ki OLX ek international company hai aur jaha QUIKR ek Indian. Inn classified sites ka main earning advertisement fees and revenues se hota hai.

Beech me OLX ne apna puraa market चारो taraf faila diya thha jis wajah se QUIKR ke rank aur revenues me कटौती aayi thhi. Lekin isi time ko utilize karte hue QUIKR ne apna puraa business panel diversify kiya aur 2 bade famous business-departments banaye-

  • Quikr jobs
  • Quikr cars

Matlab same business concept ko thoda sa extend kiya. Aur iska positive response dekhne ko bhi mila.

Thik usi tarah Microsoft ne apna business Xbox playstation ki taraf diversify kiya. Micromax ne bhi LED tv ki taraf apna रुख मोड़ा है| Lenovo jo pehle Laptop banati thhi ab wo mobile world me पूरी तरह से छा गयी है| Aur ye saare apne domain me success paa rahe hai.

Matlab saaf hai diversification bhi business development strategy kaa भाग हो सकता है|

Aapke competitors-

B2B me competitors tou honge hii! Par kahi aisa tou nahi ki aapke sales ke decrease hone ka श्रेय aapke competitors ko jaata hai! Agar aisa hai tou ise jald se jald check kare! Apne competitors ko pehchan-na aur uus par analysis karna bhi business development strategy kaa ek bhaag hai.

Ye jaruri hai ki aap apne competitors ko jaane; overall aap uun areas ko find out kar paayenge jispar shayad aapko abhi kaam karna hai; aur iske sath sath aap apne brand ko apne competitors se alag aur bada bana paayenge.

Overall agar dekha jaaye tou business strategy ko develop karna ek well planned process hai jisme ek company ke low level se lekar upper level tak sabka योगदान रहता है|


Hum umeed karte hai ki aaj ke hindi business development strategies aapko pasand aaye honge, aur ye aapke business development me aapki purii tarah se help karenge.

# Business development strategy jo hume APPLE company se sikhne ko milta hai – READ HERE