Scam 1992 Dialogue [Web Series] – ‘The Harshad Mehta Story’

Scam 1992 Dialogue – स्वागत है आपका Anicow.com पर| 2020 की web series ‘Scam 1992 – The Harshad Mehta Story’ ने बॉलीवुड इंडस्ट्री में काफी नाम कमाया| अगर public review की बात की जाए तो मूवी के lead actor Pratik Gandhi को इसका सबसे बड़ा श्रेय जाता है| प्रतिक के एक्टिंग को पब्लिक ने काफी पसंद किया और इसी के साथ bollywood industry को एक नया दमदार चेहरा मिला|

Hansal Mehta द्वारा इस web series को निर्देश किया गया है| Scam 1992 web series को SonyLiv पर रिलीज़ किया गया है| Scam 1992 की कहानी share market और stock exchange की दुनियाँ पर आधारित है जो 1992 के समय के Stock market King Harshad Mehta की story को दिखाती है|

Movie के मुख्य किरदार में है Pratik Gandhi, Shreya Dhanwanthary, Anjali Barot और Nikhil Dwivedi. चलिए देख लेते है Scam 1992 movie के उन popular hindi dialogues को जिन्हे public ने काफी पसंद किया|

Scam 1992 movie trailer

Harshad Mehta Dialogue from Movie Scam 1992

# जब जेब में money हो,
तो कुंडली में शनि होने से भी कोई फर्क नहीं पड़ता..

# Risk है तो Ishq है..

# मैं cigarette नहीं पीता,
लेकिन जेब में Lighter जरूर रखता हूँ….
धमाका करने के लिए..!

# अभी अपने पास खर्च करने को सिर्फ time ही तो है,
नहीं तो सही time का wait करने में खुद खर्च हो जायेंगे..!!

# अब मेरी तरह risk से ishq है तो कूद पड़ो,
या तो डूबोगे या उड़ोगे..!

# जब profit दीखता है,
तो हर कोई झुकता है..!

Scam 1992 Dialogue

# लोचा, लफड़ा और जलेबी फाफड़ा,
इसे गुजराती के लाइफ से कोई निकाल नहीं सकता..

# मेरा interview लेने से पहले जरा मेरे बारे में जान लेना,
क्या है की.. मुझे जान जाओगे तो मान जाओगे..!

# अगर मेरे पूँछ में आग लगाएंगे,
तो लंका उनकी भी जलेगी..!

# Emotion में इंसान हमेशा गलती करता है..!

# Free में तो मैं अपने बाप को भी tip नहीं देता..!

# Harshad के धंधे की धार पर भरोसा रख,
अच्छे अच्छो की कट जाती है इसके सामने..!

# Share market में लोग किस्मत में विश्वास रखते है,
लेकिन मैं किस्मत में नहीं कीमत में विश्वास रखता हूँ..!

Scam 1992 Dialogue

Scam 1992 Movie Dialogues

# Success क्या है?
Failure के बाद का नया chapter..!

# Pranav bhai.. मुझे पापड़ बेलना ही नहीं है,
सीधा तल के खाना है वो भी कांदा-टमाटर के साथ..!!

# सबके दिमाग में ये बात बैठ जानी चाहिए की,
‘मेहता के राज मा market मज़ा मा..’

# एक गुजराती के लिए धंधा धर्म से भी बड़ा होता है..!!

# Market में सबसे बड़ा जोखिम,
जोखिम ना लेने में है..!!