कुछ ऐसे रहस्यमय मंदिर जिनके राज़ आज भी नहीं खुल पाए है – Rahasyamayi mandir राज़

रहस्यमय मंदिर का राज़ – स्वागत है आपका Anicow.com पर| आज हम आपको कुछ ऐसे rahasyamayi mandir के बारे में बताने वाले है जिनके बारे में शायद ही आप जानते हो या आपने कही पढ़ा हो| इन रहस्यमय मंदिर का राज़ आज तक खुल तो नहीं पाया है लेकिन इन मंदिरों के आस पास के भक्तों द्वारा कही गयी बातें आपको शायद चौका देगी| तो चलिए आज जान लेते है उन rahasyamayi mandir के बारे में|

Rahasyamayi mandir – चौकाने वाले राज़

ओडिशा शिव मंदिर, टिटलागढ़, कुम्हड़ा पहाड़

इस मंदिर में सबसे ख़ास है इसका ठंडा वातावरण और वो भी जब मंदिर के बाहर 55 डिग्री की गर्मी हो! कहते है की जैसे जैसे गरम काल में मंदिर के बाहर का वातावरण गरम होता है और धुप बढ़ती जाती है, ठीक वैसे ही मंदिर के अंदर ठण्ड बढ़ती जाती है| ये मंदिर ओडिशा के टिटलागढ़ में स्तिथ कुम्हड़ा पहाड़ के एक हिस्से में स्तिथ है| मंदिर के पुजारी का कहना है की जब भी वो मंदिर का दरवाज़ा अंदर से बंद कर देते है, तो उन्हें मंदिर के अंदर इतनी ठण्ड लगने लगती है की उन्हें कम्बल तक लेना पड़ता है|

स्तंभेश्वर महादेव मंदिर, गुजरात (Rahasyamayi mandir)

ये भगवान शिव का मंदिर है जो समुद्र तट पर स्तिथ है और लगभग 150 वर्ष पुराना है| इस मंदिर में सबसे ख़ास बात ये है की ये मंदिर कुछ पलों के लिए पानी में गायब (जलमग्न) हो जाता है| दरअसल समुद्र में बड़ी बड़ी लहरें उठने के कारण ये मंदिर लहरों में समा जाता है, और फिर कुछ पलों के लिए दीखता नहीं है, गायब हो जाता है| फिर लहरें लौट जाने के बाद ये दोबारा दिखने लगता है| इस मंदिर में भक्त सुबह के समय आते है जब लहरें नहीं उठती है और शांत रहती है|

रहस्यमय मंदिर rahasyamayi mandir

रहस्यमय मंदिर rahasyamayi mandir

कमलनाथ महादेव मंदिर, राजस्थान, उदयपुर

उदयपुर, राजस्थान के आवरगढ़ पहाड़ियों में स्तिथ एक मंदिर ऐसा भी है जहाँ महादेव की पूजा करने से पहले वहाँ रखे रावण की प्रतिमा का पूजन किया जाता है| यहाँ के लोगो का ये मानना है की अगर महादेव की पूजा से पहले रावण की पूजा नहीं की जाए तो शिव जी की पूजा व्यर्थ रह जाती है|

कन्याकुमारी मंदिर (Rahasyamayi mandir)

ये मंदिर समुद्र तट पर स्तिथ है जहाँ जमीन पर चावल और दाल के जैसे कंकर-पत्थर पाए जाते है| कहते ही की ये मंदिर पारवती देवी के कन्या रूप को दर्शाता है और यहाँ उनकी पूजा की जाती है| देवी का विवाह किसी कारणवश नहीं हो सका तो शादी में बचे चावल-दाल बाद में कंकर बन गए और इसी वजह से यहाँ के समुद्रतट पर उसी तरह के कंकर-पत्थर पाए जाते है|

बिजली महादेव मंदिर, कुल्लू, हिमाचल प्रदेश

इस मंदिर में जिस स्थान पर महादेव का शिवलिंग है यहाँ हर बारह साल में एक बार आकाश से भयंकर बिजली गिरती है, जिस से शिवलिंग टूट कर खंडित हो जाता है| फिर यहाँ के पुजारी उस शिवलिंग को मक्खन के साथ जोड़ देते है| यहाँ के लोगो का कहना है की बिजली गिरने से होने वाले नुक्सान से बचाने के लिए महादेव का ये शिवलिंग खुद बिजली को सहन कर लेता है और इसी वजह से खंडित हो जाता है|

Also read-

मंदिर और रहस्यमयी दरवाज़े जिनका बंद रहना ही उचित था


(For more updates visit us again Anicow.com)

You may also like...