Shayari gam Bhari – “ना हारा है इश्क़ ना कभी दुनिया है थकी….”

Gam bhari shayari – Namaskar dosto, swagat hai aapka Anicow.com par. Aaj hum aapke liye lekar aaye hai kuch gam bhari shayari. Aaj ki shayari me dard hai, mohabbat hai aur gam hai. Yaha aapko milega gam bhari shayari, shayari gam bhari, gum bhari shayari, gam shayari, dard bhari shayari hindi mai, dard bhari shayari in hindi.

Shayari gam bhari-

# Dard mohabbat ka ae dost bahut khoob hoga,
naa dikhega, naa chubhega bas mehsus hoga..

# Mere akelepan ko mera shaukh naa samjha karo,
bade hi pyaar se tohfa diya hai kisi chahne wale ne..

# Log kehte hai ‘muskurate bahut ho’,
aur hum thak gaye dard chupate chupate..

# Tumse bichad kar humne tumhe paa liya,
kyoki ab humne tumhari yaado me apna ghar bana liya..

Shayari gam bhari –

प्रेमिका की शादी तय हो चुकी थी| उसने रोते हुए अपने प्रेमी को फ़ोन किया और आखिरी बार मिलने की इच्छा जताई| प्रेमी पूरी तरह से टूट चूका था| उसे मिलने का मन नहीं था| कैसे मिलता वो अपने प्रेमिका से जिसे उसे उस आखिरी मुलाकात के बाद हमेशा के लिए अलविदा कहना था| दोनों ने खुदखुशी करने का तय किया| तब प्रेमिका ने खुदखुशी करने से पहले भी एक बार मिलने की इच्छा जताई| प्रेमी राज़ी हो गया| दोनों उसी पहाड़ी मंदिर में मिले जहाँ अक्सर वो मिला करते थे| वो आखिरी बार मिलने के बाद प्रेमिका अपने प्रेमी को पकड़ कर रोती रही, और बोली-

# प्यास इस समंदर की आज बुझ जाने दे,
लबों को आज मंज़िल तक पहुंच जाने दे..
आखरी बार आज मुझे मिट जाने दे !!

… फिर क्या हुआ? फिर क्या, सामने पहाड़ था और गहराई थी..!!

Gam bhari shayari –

# मेरी तबाहियों का कोई गम नहीं,
चलो इस बहाने तुमने किसी ओर के साथ मोहब्बत निभा तो दी..

# ना हारा है इश्क़ ना कभी दुनिया है थकी,
दिया जला और हवा भी चली,
सुकून ही सुकून है और ख़ुशी ही ख़ुशी,
तेरा गम सलामत है आज भी मुझमे कहीं…

Gum bhari shayari

# ताबीर Jin की Dekh कर Aankhein हैं ज़ख़्मी ज़ख़्मी,
इन् aankho को Itne हसीन ख्वाब Dikhane का शुक्रिया …

# सागर से भी gehri तेरी aankho की ख़ूबसूरती,
mujhe डूबा le inme और कभी निकलने naa दे..

# Aankho ko मेरी कई लोगो ne पड़ा है,
पिंजरे के पंछी सा dil बेबस खड़ा hai,
आज़ाद होकर खुले aasman में उड़ने को बेकरार hai,
किसी और का nahi मुझे सिर्फ tera ही इंतेज़ार है..

Dard bhari shayari hindi mai

# जुदाई, दर्द, तड़प, आँसू, फ़िक्र, मजबूरी;
जरा सी उम्र में कितने ज़माने देख लिए मैंने |

# झूठी हँसी se जख्म और bhi गहरा होता गया,
इससे बेहतर था खुलकर आँसू बहा लिया होता .. |

# मत पूछ ऐ zindigi कैसे गुजरती है tanhai में,
आँखों से बरसते हैं आँसू unki जुदाई में.. |

# जोड़कर rishta mohabbat का किसी se,
unhe बीच रास्ते me iss tarah छोड़ा nahi jata,
कांच se hote है ye dil के rishte,
इन्हे ek बार तोड़ कर जोड़ा nahi jata…


(For more updates visit us again AniCow.com )