Home / Magazine / Business tips in hindi – एमएसएमई योजना लाभ (Benefits of MSME Schemes)

Business tips in hindi – एमएसएमई योजना लाभ (Benefits of MSME Schemes)

Business tips in hindi – एमएसएमई  (MSME) सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों का एक संक्षिप्त नाम है जो कि जीडीपी, विकास दर और रोजगार के अवसरों को बनाए रखने के लिए अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। इसे भारत के लिए “विकास का इंजन” कहा जाता है। आज देश के हर हिस्से में एमएसएमई की जड़ें हैं। एमएसएमई ने पूरे देश में 50 मिलियन से ज्यादा लोगों को रोजगार दिया है और जीडीपी का 8% योगदान देता है।

 

भारत में एमएसएमई 80% से अधिक औद्योगिक उद्यमों का हिस्सा है और 10,000 से ज्यादा उत्पादों का उत्पादन करता है। निर्यात में भी मदद मिली है, हालांकि भारत अभी भी कुछ बुनियादी ढांचा समस्याओं का सामना कर रहा है, परन्तु इस छेत्र में बड़ी वृद्धि होने की संभावना है। सरकार प्रौद्योगिकी की उन्नयन और पूंजी की आवश्यकता के 80% तक वित्तीय सहायता को बढ़ाने की योजना बना रही है।

दोनों राज्य और केंद्र सरकार ने एमएसएमई को बढ़ावा देने के लिए कई पहल कीं है। बैंक पहले से एक व्यवसाय शुरू करने के लिए ऋण देते हैं जो कि एमएसएमई रजिस्ट्रेशन MSME Registration में पंजीकृत है।

Business tips in hindi – सेवाओं की पेशकश के लिए  शर्तें :-

 

  1. विनिर्माण क्षेत्र के तहत वर्गीकरण

सूक्ष्म उद्यम  25 लाख तक
लघु  उद्यम  25 लाख से ऊपर – 5 करोड़ तक
मध्यम उद्यम  5 करोड़ से ऊपर 10 करोड़ तक

 

  1. सेवा क्षेत्र के अंतर्गत वर्गीकरण

सूक्ष्म 10 लाख तक
लघु  उद्यम 10 लाख से ऊपर 2 करोड़ तक
मध्यम उद्यम 2 करोड़ से ऊपर 5 करोड़ तक

 

एमएसएमई सेवाओं  के लाभ [business tips in hindi]

 

  1. आरक्षण नीति :
    इस सेक्टर के अंतर्गत नीति के रूप में उद्यमों को दिया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण लाभ आरक्षण नीति है। इनके लिए कुछ खास छेत्र आरक्षित हैं तथा उद्यमों को इन क्षेत्रों के लिए निश्चित उत्पादों की संख्या का निर्माण करना होता है।

 

2.मोमोरेन्डम पॉलिसी :
उद्यमियों के लिए उद्यमी ज्ञापन नीति भरना अनिवार्य है और भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंको को कृषि, गरीबों को ऋण, एमएसएमई आदि को प्राइमरी सेक्टर लैंडिंग के रूप में कुछ धन राशि आवंटित करने के  निर्देश दिए  है। इसलिए बैंक से लाभ पाने के लिए ज्ञापन नीति को भरना अनिवार्य है।

 

  1. माइक्रो और लघु उद्यमों के लिए मार्केट विकास सहायता
    इस योजना में, सरकार उन उत्पादों पर विपणन सहायता प्रदान करती है जो आरक्षण नीति के तहत नहीं आते और उनके द्वारा निर्मित है।

 

  1. सरकारी निविदाएं प्राप्त करने में प्राथमिकता
    सरकार की खरीद नीति के अनुसार, सूक्ष्म और लघु उद्यमों के आदेश, 2012 के लिए खरीद नीति, सभी सरकारी मंत्रालयों, विभागों और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम को सूक्ष्म और लघु उद्यमों से माल या सेवा के अपने कुल एवेन्यू मूल्य का न्यूनतम 20 प्रतिशत खरीदना होगा।

 

  1. बार कोड पंजीकरण सब्सिडी
    इस उद्यम में जिनके पास एमएसएमई पंजीकरण है, वे बार कोड सब्सिडी का फायदा उठा सकते हैं जो योजना में उल्लिखित है।
[Business tips in hindi]
  1. देरी भुगतान पर ब्याज का अधिकार
    यदि खरीदार भुगतान करने में विफल रहता है तो वह आपूर्तिकर्ता को मासिक शेष के साथ चक्रवृद्धि ब्याज का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होगा और दर बैंक की दर से तीन गुना होगी।

 

  1. देरी के खिलाफ संरक्षण
    एमएसएमईडी अधिनियम खरीद से संबंधित सुरक्षा प्रदान करता है, अगर कोई खरीदार उद्यम द्वारा दी गई वस्तुओं और सेवाओं की कीमत का भुगतान नहीं करता है। खरीदार को सहमति की तारीख से पहले या उस राशि का भुगतान करना पड़ेगा लेकिन इस अवधि को 45 दिन तक बढ़ाया जा सकता है।

 

  1. तकनीक उन्नयन योजना
    इस योजना के तहत, एक उद्यम बैंकों से कम ब्याज ऋण की सहायता से नवीनतम तकनीक के माध्यम से अपने उपकरण का उन्नयन कर सकता है।

 

  1. कोलेटरल फ्री लोन
    संपार्श्विक मुक्त ऋण उद्यम को एक छोटे से व्यवसाय शुरू करने में मदद करने और इसे आसानी से चलाने के लिए दिया जाता है। इस योजना में, क्रेडिट गारंटी फंड स्कीम को लागू करने के लिए एक क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट फॉर माइक्रो एंड स्मॉल एंटरप्राइज (सीजीएफटीएमएसई) की स्थापना की गई है।

 

10. अनुभव और पंजीकरण
हालांकि यह पंजीकरण करना जरूरी नहीं है लेकिन सभी लाभ प्राप्त करने के लिए एक उद्यम को पंजीकृत होना चाहिए । अगर किसी संगठन के पास एमएसएमई प्रमाण पत्र है तो उसे अपने व्यवसाय के लिए किसी भी क्षेत्र में लाइसेंस, अनुमोदन और पंजीकरण प्राप्त करना बहुत आसान है।

[Business tips in hindi]
  1. एक्साइज छूट योजना
    इस योजना में, कोई भी एमएसएमई आबकारी श्रेणी में नहीं है और इसे व्यापार के प्रारंभिक वर्ष में छूट दी गई है।

 

  1. बिजली के बिल में रियायत
    एमएसएमई पंजीकरण वाला कोई भी उद्यम इस पेशकश का लाभ उठा सकता है।

 

13.कच्चा माल सहायता योजना
यह योजना कच्चे माल स्वदेशी और आयातित दोनों को खरीदने के लिए उद्यमों को सहायता करती है। यह 90 दिनों तक कच्चे माल की खरीद के लिए वित्तीय सहायता देती  है और छूट और बल्क खरीद पाने में भी मदद करती  है।

 

  1. बिल छूट योजनाएं
    इस योजना में वास्तविक व्यापार लेनदेन से उत्पन्न होने वाले बिलों की खरीदारी / छूट शामिल है, यानी प्रतिष्ठित सार्वजनिक सीमित कंपनियों द्वारा छोटे पैमाने पर की गई खरीद।

 

निष्कर्ष [Business tips in hindi]:-

एमएसएमई एक देश की रीढ़ है और आर्थिक विकास को बढ़ाने के लिए इसका बहुत महत्व है। यह क्षेत्र भारत को एक विकसित देश बनने में मदद कर सकता है। अब तो बैंक ने भी एमएसएमई पंजीकरण को फर्म रजिस्ट्रेशन के लिए मान्य कर दिया गया है।

नई प्रौद्योगिकियों में उन्नयन करके इस क्षेत्र  को एक अलग स्तर पर पहुंच जा सकता है। लेकिन कुछ चीजें हैं जिन पर प्रकाश डालने की जरुरत  है तथा एक सक्षम पारिस्थितिक तंत्र को विकसितT करने के लिए मूल्यांकन की जरुरत है।

HTMLFont size

AniCow.com

ऐसे और भी interesting articles पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग AniCow.com के साथ बने रहे!

About anirudh

Hi this is Anirudh the founder of this blog. By profession I am a web-developer cum internet marketer. I have started this blog in the year 2016. Now it has become a leading internet eMagazine which provides internet help and informational articles. Keep visiting Anicow.com for more informational articles and internet guide. If you want to contact me, then drop me an eMail at [email protected] ! मैंने इस website को specially हिंदी भाषा में हिंदी readers के लिए बनाया है, ताकि उन्हें हिंदी में internet help, technology, health, lifestyle, business से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी दे सकूँ|