Breakup ke baad kya kare? कैसे संभले? कैसे एक नई शुरुवात करे?

Breakup ke baad kya kare – नमस्कार दोस्तों, आपका फिर से स्वागत है मेरे ब्लॉग AniCow.com पर| इसके पहले पार्ट में हमने breakup ke baad patch up कैसे करे उसपर चर्चा की थी| अगर आप ने वो पार्ट नहीं पढ़ा तो पहले उसे पढ़ ले – click here

आज हम यहाँ जानेंगे की breakup ke baad कैसे खुद को संभाले और आगे बढ़े| पहले पार्ट में आपने patch up के बारे में पढ़ा और आपने अपनी तरफ से कोशिश भी की, लेकिन बात नहीं बनी| चलिए अब आपको कोशिश ना करने का अफ़सोस तो नहीं रहेगा! अब आपको आगे बढ़ना है, क्योकि ज़िन्दगी रुकने का नाम नहीं है| जिस तरह से समंदर का पानी ठहर जाए तो वो सड़ने लगता है, ठीक उसी तरह अगर ज़िन्दगी रुक गयी तो हमे depression, stress, loneliness जैसे issues परेशान करने लगते है और हम अंदर ही अंदर सड़ने लगते है| तो चलिए आज मैं आपको कुछ ऐसे टिप्स देता हूँ जो आपको breakup से बाहर निकलने में मदद करेंगे| तो चलिए शुरू करते है|

Breakup ke baad kya kare

Breakup ke baad kya kare

Breakup ke baad kya kare

सबसे पहले स्वीकार करे-

हम अक्सर breakup के बाद ख़यालो की दुनिया में खो जाते है, खुद अपने अंदर दोष ढूंढ़ने लगते है, खुद को सामने वाले के मुताबिक़ बदलने की कोशिश करते है और जब निराश हो जाते है तो अपने आप को किसी रूम में बंद करके रोने लगते है, या फिर किसी गलत काम की तरफ अपना कदम बढ़ा देते है|

पर कभी आपने ये सोचा है की किसी ओर की वजह से आप इतने मजबूर हो गए हो| और असल बात ये है की आप जिसके लिए ये सब कर रहे हो, उसे कोई फर्क नहीं पड़ेगा| इसलिए सबसे पहले अपने आप को संभालो और स्वीकार करो की आज आप अकेले हो|

जब एक किताब बंद होगी तभी आप जिंदगी की दूसरी किताब खोल पाओगे| अगर आप एक ही किताब को लेकर बैठे रहोगे और पिछले पन्ने पलटते रहोगे, तो इस से लिखावट में कोई परिवर्तन नहीं आने वाला| इसलिए दूसरी किताब की ओर बढ़ो, शायद दूसरी किताब में ज़िन्दगी का असली राज़ रखा हो!

बदले का भाव नहीं रखना है-

अक्सर ब्रेकअप के बाद हम अपने दिल में बदले का भाव बैठा लेते है, और मौके ढूंढ़ते रहते है कब बदले लिया जाए| और इस चक्कर में हम खुद अपनी ज़िन्दगी तबाह कर लेते है| बड़े बुजुर्ग कह गए की, “जिस दिन आप बदला लेने की सोचोगे तो सबसे पहले दो कब्र खोद लेना, एक सामने वाले का और दूसरा अपना खुद का”! क्योकि इस बदला लेने के भाव से हम अपने ज़िन्दगी में अपने उसूलों, अपने ज़मीर, अपनी आत्मा को बदल देते है और बदला लेने के लिए कुछ भी कर गुजरते है, ये ना समझे की क्या सही है और क्या गलत!

अगर आपको सच में बदले लेना है, तो आज से आप खुश रहना सिख लो| आपको खुश देखकर सामने वाला ये सोचते-सोचते मर जायेगा, की आखिर आपको ऐसा कौन सा हीरा मिल गया!

आपको खुश देखकर-

अगर आप आज से ही हसने लगते हो, दोबारा अपने ज़िन्दगी को जीने लगते हो, तो कुछ दिनों बाद आपका प्यार आपके पास दोबारा लौट आएगा| ये आज नहीं तो कल जरूर होगा, चाहे एक महीने बाद हो, या एक साल के बाद! ये universal truth है| अब तब क्या करे?

जो मुर्ख है वो दोबारा patch-up कर लेंगे| और जो जीना सिख गए है वो एक हलकी सी मुसकान देकर आगे निकलेंगे| Be practical! सोचने वाली बात ये है जो आपके दुःख के घड़ी में आपके साथ नहीं था आज वो आपको खुश देखकर आपके ख़ुशी में शरीक होने आया है, इसका मतलब साफ़ है की कल वो आपको फिर दोबारा छोड़ कर जायेगा|

ना आपको बदला लेना है, ना आपको दोबारा patch-up करना है| सिर्फ एक हल्का सा smile दीजिये, और आगे बढ़िए|

ये decision लेना थोड़ा मुश्किल जरूर है, लेकिन यही निति है| इस कठोर step को आप तभी ले जब आप एक बार patch up करने की कोशिश कर चुके हो जैसा मैंने part 1 में बताया था|

अगर आप mentally strong है, तो आप एक बार कोशिश कर सकते है लेकिन एक बार कांच के टूट जाने के बाद वो जुड़ तो सकता है लेकिन दरारे रह जाती है, और इन दरारों से आपका हाथ भी कट सकता है| अब decision आपके ऊपर है, आपको emotional fool बनना है या अपनी life जीनी है|

खुद से प्यार करे-

ब्रेकअप के बाद तो जैसे हम अपने आप को एक तरह से तकलीफ देने लगते है| समय पर खाते नहीं, सोते नहीं, दिन भर गुम-सुम पड़े रहते है, किसी से बात नहीं करते, किसी की सुनते नहीं, ज़िन्दगी जीना ही छोड़ देते है| करते रहिये, किसी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा!

पर आप ये सुन कर हैरान हो जाएंगे की आपकी इन् सब करतूतों की वजह से सबसे ज्यादा फर्क किसे पड़ता है – आपके माता पिता को| जरा याद कीजिये आपके बचपन के दिनों को जब आपकी एक मुसकान के लिए आपके पिता दुनिया की हर ख़ुशी बटोरने लगते थे| आपकी माँ तो बस आपके चेहरे की एक मुसकान के लिए कुछ भी कर गुजरने को तैयार थी| आज उनपर क्या गुजर रही है, कभी सोचा है आपने?

इसलिए कल तक तो कटपुतली की तरह किसी और के इशारों पर जी रहे थे, पर आज से सिर्फ अपने family के लिए जीना शुरू कीजिये| खुद से प्यार करना सीखिए, हंसने की कोशिश कीजिये| आज जो आपकी स्तिथि है, ऐसे में हंसना मुश्किल होगा लेकिन कम से कम ये सोच के हँसिये की आपको हँसता देखकर कुछ लोग जी लेंगे|

अपने hobby से करे एक नई शुरुवात-

याद रहिये की ज़िन्दगी हमे हर दिन हर बार जीने का एक नया मौका देती है जिसे हम ‘कल’ कहते है| इसलिए आज से कल के लिए जीना शुरू कीजिये| ऐसे में आपकी hobby आपको सहारा देगी| याद कीजिये जब आप कुछ ऐसा काम करते थे जिस से आपको अंदर से ख़ुशी मिलती थी, वो आपकी hobby रही होगी, या फिर आपका passion. वो कुछ भी हो सकता है, singing, dancing, cycling, playing, travelling, painting, mimicking, poem, shayari, या कुछ और| उस काम को दोबारा कीजिये, आपको बहुत अच्छा लगेगा|

शायद आपके लिए इस से अच्छा कोई ओर है-

कहते है की जब भगवान एक रास्ता बंद करता है, तो सौ दरवाज़े ओर खोलता है| अब ये आपके ऊपर है की आपको उसी दरवाज़े का पास बैठकर रोना है या बाकी के दरवाज़ों को ढूंढ़ने के लिए निकलना है| शायद आपका ब्रेकअप इस वजह से हुआ था क्योकि वो आपके लायक नहीं! शायद आपको इस से बेहतर कोई ओर मिलेगा, जो आपको समझ पायेगा, पहचान पायेगा| इसलिए सकारात्मक सोचिये और आगे बढ़िए, ज़िन्दगी को जीना शुरू कीजिये|