Anmol vachan – दुनिया में सबसे बड़ा कौन? भगवान या माता पिता?

Anmol vachan – नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आपका Anicow.com पर| आज हम आपके लिए लेकर आये है अनमोल वचन जो अलग अलग विषयों पर है जैसे माता पिता, योग्यता, जीवन में शान्ति, सुख और दुःख| तो चलिए पढ़ते है आज के अनमोल वचन|

anmol vachan mata pita

anmol vachan mata pita

Anmol vachan – माता पिता अनमोल धन

दुनिया में सबसे बड़ा कौन? भगवान या माता पिता?
उत्तर – माता पिता

क्योकि भगवान / ईश्वर आपको सुख और दुःख देता है लेकिन माता पिता हमेशा आपको सिर्फ और सिर्फ सुख देते है| भगवान कभी कभी हमे परखने के लिए दुःख, पीड़ा भी देता है ताकि हम और ज्यादा मजबूत हो| लेकिन हमारे माता पिता हमे कभी दुःख दे ही नहीं सकते| एक माता पिता हमेशा भगवान से उनके बच्चो की सुख की कामना करते है| इसलिए कभी भी माता पिता को कष्ट मत देना, उनकी सेवा करना| उनसे बड़ा कोई धन नहीं इस दुनिया में|

Anmol vachan in hindi – योग्य कैसे बने?

अगर आप दुसरो के प्रति श्रद्धा रखते है तो आपको ज्ञान मिलेगा, अगर नम्रता रखेंगे तो मान मिलेगा और अगर आप योग्य है तो आपको सम्मान मिलेगा| और अगर आप ये तीनो रखते हो तो आपको मान, सम्मान, प्रतिष्ठा सब कुछ मिलेगा|

इसलिए दुसरो के प्रति श्रद्धा रखो, कुछ नया सीखो, ज्ञान अर्जन करो| आप चाहे जितना भी बड़ा क्यों ना बन जाओ आपका सीखना बंद नहीं होना चाहिए| दुसरो के प्रति विनम्र रहो| और ज्ञान और विनम्रता आपको अपने आप योग्य बना देगी|

Anmol vachan – स्वाद और विवाद

स्वाद और विवाद दोनों मनुष्य को बर्बाद कर देती है| स्वाद छोड़ो तो हमारे शरीर को फायदा और विवाद छोड़ो तो हमारे जीवन को फायदा| स्वाद के बारे में तो हम सब जानते है, चाहे स्वाद खाने का हो या पैसो का हमे धीरे धीरे अंदर से खोखला कर देती है| और बिना मतलब के विवाद हमे चिंता, दुःख देती है| इसलिए जीवन को शान्ति से जीने के लिए इन दोनों का त्याग करे|

सुख और दुःख Anmol vachan in hindi –

अगर हम दुःख पर ध्यान देंगे तो हम दुखी रहेंगे और अगर हम सुख पर ध्यान देंगे तो हम सुखी रहेंगे| शायद आपने कभी ये सुना हो की “हम जिस तरह का विचार करते है, उसके अनुरूप हम कार्य भी करने लगते है”| इसलिए हमेशा सुख पर ध्यान दे, positive सोचे, तब आप पाएंगे की आपके सारे काम अच्छे हो रहे है और आप दिनों दिन सुखी होते जा रहे है|

समझने वाली बात ये है की सुख और दुःख, रात और दिन की तरह होते है एक सिक्के के दो पहलू| इसलिए अगर हम सुख पाते है तो दुःख को नकार नहीं सकते, उसे भी हमे भोग करना ही होगा, तभी हम सुख को समझ पाएंगे| लेकिन जब आपके जीवन में दुःख आये तो आप विचलित ना हो, और positive सोचो|